Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

ठगी का नया फंडा: नकली मालिक बन कर जमीन बेचा और ठगे 34 लाख, रजिस्ट्रार समेत 7 नामजद

0 183

 

ठगी का नया फंडा: नकली मालिक बन कर जमीन बेचा और ठगे 34 लाख, रजिस्ट्रार समेत 7 नामजद

First Prime: बेगूसराय में जालसाजों ने ठगी का नया फंडा अपनाते हुए शहर के जाने-माने साई टाईल्स के मालिक शैलैंद्र कुमार गुप्ता से 34 लाख रूपए ठग लिए। इस ठगी के कारनामे में रजिस्ट्री कार्यालय के रजिस्ट्रार और लिपिक को भी नामजद अभियुक्त बनाया गया है। ठगी की यह वारदात पिछले साल 16 जनवरी को हुई। लेकिन इसका खुलासा हाल के दिनों में हुआ है। इस सम्बंध में पीड़ित शैलेंद्र कुमार गुप्ता ने नगर थाना में एफआईआर दर्ज कराई है।

हेडक्वार्टर डीएसपी निशिथ प्रिया ने बताया कि लोहियानगर के मिथिलेश झा,विशनपुर के राजू झा, छोटी ऐघु के मुरारी सिंह,कचहरी रोड के अमित कुमार, रजिस्ट्री कार्यालय के रजिस्ट्रार, लिपिक और कातिब मनोज कुमार को नामजद किया है। उन्होंने बताया कि पीड़ित का कहना है कि साल 2019 में मिथिलेश कुमार झा,राजु झा, मुरारी सिंह और अमित कुमार मेरे पास आये और कहा कि मुरारी सिंंह और अमित कुमार का एक जमीन का टुकड़ा शहर में है। जिसे आप खरीद सकते हैं। इसके बाद पीड़ित ने आरोपियों को 25 लाख बैंक से और 9 लाख रूपए कैश देकर 16 जनवरी को जमीन का केबाला करवा लिया। लेकिन कुछ दिनों पहले उन्हें पता चला कि उनके साथ धोखाधड़ी हुई है। इसके बाद पीड़ित ने आरोपितों से कहा कि उन्होंने उसके साथ ऐसा किया है। तब आरोपितों ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी। हेडक्वार्टर डीएसपी निशिथ प्रिया ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है।
ऐसे हुआ ठगी का खुलासा
कुछ दिनों पहले तिलक नगर निवासी अमित कुमार शैलेंद्र कुमार गुप्ता के पास पहुंचा और उन्हें बताया कि उन्होंने जिस जमीन को खरीदा है। वो जमीन मेरी है। आरोपितों ने नकली अमित कुमार खड़ा करके मेरी जमीन आपकों केबाला कर दिया है। जब उन्होंने अमित कुमार के द्वारा खरीदे गए जमीन का असली केबाला दिखाया तो पाया कि वे वास्तव में ठगी के शिकार हो गए हैं।

निबंधन कार्यालय के रजिस्ट्रार और कर्मियों की है सांठ-गांठ
इस अनोखे स्टाइल से ठगी की वारदात में निबंधन कार्यालय के रजिस्ट्रार समेत अन्य कर्मियों की भूमिका भी संदिग्ध है। बिना सही तरीके से कागजात की जांच किए हुए कैसे फर्जी रजिस्ट्री हो गया। यह जांच का विषय है। एक विक्रेता मुरारी सिंह, क्रेता शैलेंद्र कुमार गुप्ता और पहचानकर्ता का रजिस्ट्री कार्यालय के कर्मियों ने कम्प्युटर से फोटोग्राफ लिया। जो केबाला पर फोटो है। लेकिन नकली अमित कुमार का केबाला पर फोटो चिपका हुआ है। शातिरों ने पकड़े जाने से बचने के लिए ही अमित कुमार का फोटो रजिस्ट्री पर चिपका दिया।

ब्यूरो रिपोर्ट – बेगूसराय

Copy

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!