Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

बेगूसराय के श्मशान में पाबंदी, जिला प्रशासन में खलबली !

0 415

 

First Prime: बेगूसराय (बिहार) देश में महामारी के दस्तक देने से लेकर अब तक का नए कोरोना मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी से सबसे बड़ा आंकड़ा देखने को मिला है। इस महामारी से दहशत का माहौल काफी बढ़ गया है। वहीं बढ़ते कोरोना मरीजों की वजह से देश भर के अस्पतालों में बेड, वेंटिलेटर, रेमडेसिविर और ऑक्सीजन की किल्लत जारी है। सैकड़ों लोग बिना इलाज के ही दम तोड़ रहे हैं। शवों के अंतिम संस्कार के लिए श्मशान घाटों पर कई कई घंटों का इंतजार करना पड़ रहा है। वहीं देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर की खतरनाक रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रही है। कोरोना मरीजों और कोविड से होने वाली मौतों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी से दहशत का माहौल है। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए ज्यादातर राज्यों में पाबंदियां लागू हैं। बात करें बिहार के बेगूसराय जिलेे की तो एक तरफ इस कोरोना महामारी में जहां लोगों के साथ-साथ प्रशासनिक महकमे में खलबली मचा दी तो वही गंगा किनारे बसे ग्रामीणों के लिए भी परेशानियां बढ़ती जा रही हैं । दरअसल कोरोना मरीजों की मौत के बाद कई परिजन शव को लेने से भी इनकार कर रहे हैं या कुछ परिजनों के द्वारा अगर शव को लिया भी जाता है तो गंगा किनारे जाकर जैसे तैसे उसका संस्कार कर गंगा में बहा दिया जाता है। जिससे कि अधजली अवस्था में लाश या फिर फेंके गए शव के सरने की वजह से गंगा किनारे रहने वाले लोगों का जीना मुश्किल हो रहा है । ऐसे में खोरामपुर घाट सहित अन्य गंगा घाटों के नजदीक के ग्रामीणों ने बैरिकेटीग लगाकर कोरोना मरीजों के शव को आने से रोकने की कवायद शुरू कर दी है ।

दरअसल लोगों का आरोप है कि कोरोनावायरस से मौत के बाद परिजनों के द्वारा शब को छुआ नहीं जाता और जैसे-तैसे गंगा किनारे लाकर कम लकड़ियों में जलाया जाता है । जिससे की लाश अधजलि रह जाती है और फिर झटपट लोगों के द्वारा लाश को गंगा में बहा दिया जाता है । कुछ एक परिजन तो ऐसे भी सामने आ रहे हैं जो शव का हाथ पैर बांधकर उसे गंगा में फेंक देते हैं । इतना ही नहीं ग्रामीणों ने एंबुलेंस चालकों पर भी शव को फेंकने का आरोप लगाया है ।

ग्रामीणों का आरोप है कि इस वजह से संक्रमण फैलने का खतरा भी बढ़ गया है और लोगों को गंगा स्नान करने में भी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों ने मांग किया है कि कोरोना मरीजों की मौत के बाद प्रशासन की देखरेख में लाश को जलाया जाए जिससे कि संक्रमण का खतरा ना रहे । हलाकि देश कोरोना वायरस की दूसरी लहर का प्रकोप जारी है। राहत की बात ये है कि करीब एक हफ्ते से कोरोना संक्रमण के दैनिक मामलों में कमी दर्ज की जा रही है। वहीं कोरोना से होने वाली मौत का आंकड़ा अभी भी चिंता का विषय बना हुआ है। देश में बीते 24 घंटे में 3.11 लाख से अधिक नए कोरोना मरीज मिले हैं और 4,077 लोगों की जान चली गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को यह जानकारी दी।

ब्यूरो रिपोर्ट : बेगूसराय

एडवर्टाइज

 

Copy

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!