Publisher Theme
I’m a gamer, always have been.

इंटरनेशनल रेड क्रॉस डे के अवसर पर डॉक्टर नलिनी रंजन का विशेष अपील ! विस्तार से पढ़ें

0 60

 

First Prime: आज इन्टरनेशनल रेडक्रास डे है। रेड क्रॉस की स्‍थापना को 158 वर्ष हो चुके हैं। इतने वर्षों से ये संस्‍था लगातार मानवहितों और इंसान की जान बचाने के लिए पूरी दुनिया में काम कर रही है। हर साल आठ मई विश्व रेडक्रॉस दिवस के रूप में मनाया जाता है।  रेड क्रॉस के संस्थापक जॉन हेनरी डिनैंट का जन्म आठ मई 1828 में हुआ था। कोविड-19 के प्रकोप के बीच ये संस्‍था पूरी दुनिया की विभिन्‍न स्‍वास्‍थ्‍य एजेंसियों और दूसरी वैश्विक एजेंसियों के साथ मिलकर काम कर रही है। ये संस्‍था दुनिया के कई देशों में जहां आइसोलेशन वार्ड बनाने में जुटी है तो वहीं इस जानलेवा वायरस से कैसे विश्‍व को मुक्ति दी जाए इसके शोध में भी अन्‍य एजेंसियों की मदद कर रही है। विश्‍व के गरीब देशों में कोरोना संक्रमितों को बचाने और उनके इलाज के लिए बनाए गए अस्‍थाई अस्‍पतालों में साफ-सफाई और वहां हाइजीन की समस्‍या पर भी ये संस्‍था नजर बनाए हुए है। इसके अलावा गरीब और जरूरतमंद देशों में कोरोना के मरीजों को बचाने के लिए वेंटिलेटर्स समेत दूसरी सुविधाओं को भी मुहैया करवा रही है।

बिहार बेगूसराय जिला के रेडक्रास के उपाध्यक्ष डॉक्टर नलिनी रंजन सिंह ने कहा कि आज इंटरनेशनल रेड क्रॉस डे है और आज के दिन हमें यह शपथ लेना है कि हमें देश की जनता की इमानदारी पूर्वक सेवा करनी है । आज इंटरनेशनल डे के अवसर पर उन्होंनेे बताया की कोरोना वायरस वैश्विक महामारी अपने चरम सीमा पर है। इस बार हमारा भारत देश इससे बुरी तरह प्रभावित है। ऐसे में बेगूसराय की जनता सहित पूरे भारत के लोगों से अपील करता हू कोरोना वायरस के बढते प्रकोप से पैनिक होने की आवश्यकता नहीं है। हम सब इसका डटकर हम मुकाबला करना है और इसे हम जरूर हराएगे। वहीं उन्होंने यह भी बताया कि कोरोना वायरस से मृत्यु दर बहुत फिलहाल कम है लोगों में इसको लेकर काफी भय का माहौल है। इसलिए लोगों को डरने की आवश्यकता नहीं है जिन्हें पहले से किसी और बीमारी ने जकड़ रखा है जैसे उच्च रक्तचाप, डायबिटीज, या अन्य रोग है।उन्हे थोड़ा ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है।

रेड क्रॉस सोसाइटी के उपाध्यक्ष डॉ नलिनी रंजन सिंह ने बताया बाजार में मिल रहे नकली ऑक्सीमीटर जो सही ढंग से आपके शरीर की स्थिति को नहीं बताते हैं। ऐसी स्थिति में लोग डर जा रहे हैं और बिना लक्षण के ही अस्पताल में भर्ती होने को व्याकुल हो रहे हैं । अधिकतर कोरोना वायरस से प्रभावित लोग घरों पर रहकर ही होम आइसोलेशन में स्वस्थ हो रहे हैं। इसीलिए मैं लोगों से अपील करता हूं कि जिन्हें भी कोरोना वायरस (कोविड-19) हो वे टेलीफोन के माध्यम से शहर के चिकित्सकों से संपर्क करें । वही इस आपदा की घड़ी में मेरा नंबर 24 घंटे उपलब्ध है। ऐसे बहुत से चिकित्सक हैं जिनका नंबर आईएमए के साइट एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकार के द्वारा बनाए गए व्हाट्सएप ग्रुप पर भी है। वहीं जनता से अपील करना चाहता हूं कि बिना जरूरत घरों से बाहर ना निकले बहुत जरूरी हो तभी घरों से बाहर निकले ऐसे मे कोरोना वायरस के चेन को तोड़ सकते हैं  इसीलिए हमारी सरकार ने लॉकडाउन लगाया है और लॉकडाउन का पालन हम सभी को करना है । इसलिए आप सभी से अपील है कि चिकित्सकों का मनोबल बढ़ाएं, साथ ही साथ पुलिसकर्मियों के साथ बेवजह विवाद ना करें। उन्हें अपने कर्तव्य का पालन करने दें। सरकार के द्वारा बनाए गए लॉकडाउन का पालन करें । घर में रहें सुरक्षित रहें।

Copy

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!